Mohit Trendy Baba's few lucky saved works from defunct websites, forums, blogs or sites requiring visitor registration....

Wednesday, June 20, 2012

Vigyapan War

*This idea won the Raj Comics Fan Nation contest and I got an editorial mention in a Green Page. 
The Vigyapan War

*) - मुंबई मे एक बड़ी एड एजेन्सी के बूढे मालिक पप्पा जी के 2 बेटो पप्पू और पपलू मे झगडा हो जाता है और वो मुंबई मे ही आमने-सामने अपनी अलग एड एजेंसियाँ खोलते है. वो दोनों पप्पा जी को ज़बरदस्ती हटा देते है.

*) - अपनी-अपनी एड एजेंसियों को जल्द से जल्द टॉप पर पहुँचाने के लिए और अपने rival भाई की एजेन्सी बंद करवाने के लिए ये दोनों ही अजूबे शक्तिधारको की तलाश करते है जो इनकी एड एजेन्सी का काम आसान बनाये और इनके विज्ञापनों मे भी अपने जलवे दिखाए. युद्ध स्तर पर तलाश मे जुटे बड़े भाई पप्पू को मिलता है दिव्य भैंसे यमुंडा वाला गमराज और छोटे भाई को मुंबई के पास राजापुर मे लोगो की रक्षा दिख जाते है अजूबे फाइटर टोड्स.

*) - पप्पू गमराज से अपनी एड एजेन्सी द्वारा कुर्ला की गरीबी मिटाने और पपलू अपनी एड एजेन्सी द्वारा फाइटर टोड्स से राजापुर के गरीब इलाको की गरीबी मिटाने के झूठे वादे करते है. गमराज और फाइटर टोड्स इन दोनों भाइयों के लिए काम करने लगते है.

*) - अब शुरू होती है इन दो एड एजेंसियों मे एक Corporate Cold War और दोनों का मकसद था अपनी प्रतिद्वंदी कम्पनी को बंद करवाना. इस बीच आगमन होता है नकाबपोश "अफवाह मैन" का जो दोनों दलों के सदस्यों मे अफवाह फैला कर फरार हो जाया करता है.

*) - अफवाह मैन द्वारा उकसाने और तारीफ पर Over Confident कटर्र दूसरी एड एजेन्सी मे पप्पू को धमकाने जाता है जहाँ यमुंडा उसको पीट-पीट कर deflate कर देता है और उसकी तलवार इतनी बार तोड़ता है की बार-बार कटर्र की request पर तलवार जोड़-जोड़ कर परेशान टोड देव उसकी तलवार ठीक करने से मना कर देते है....कटर्र रोता हुआ वापस आ जाता है.

*) - इस बीच हास्य स्थितियां पैदा होती है जब दोनों एड एजेंसियों को C Grade Products जैसे प्रकाश बीडी, बलकेश रेवडी, विर्जिन कच्छा, आदि, के विज्ञापन मिलते है.

*) - अफवाह मैन ही इन दोनों एड एजेंसियों मे आगे की लडाइयों का कारण बनता है. एक बार तो नौबत ये आ जाती है की चारो फाइटर टोड्स एक तरफ और गमराज, शंकालू, रतालू और उनके 1 दर्जन बच्चे लडाई के लिए आमने-सामने होते है.

*) - आखिरकार इस तरह दोनों एड एजेंसियाँ Bankrupt हो जाती है और दोनों भाई कर्जदारों से बचने के लिए भाग जाते है. तब टोड्स और गमराज को पता चलता है की उनके क्षेत्र की गरीबी मिटाने का लालच देकर उन्हें इस्तेमाल किया गया था.

*) - पुलिस टोड्स और गमराज को धोखाधडी मे पप्पू, पपलू का साथ देने के आरोप मे गिरफ्तार करने वाली होती है की तभी अफवाह मैन आकार सारा कर्जा चूका देता है....अफवाह मैन और कोई नहीं पप्पू और पपलू का बूढा पिता पप्पा जी होता है.

*) - फिर पप्पा जी अपनी एड एजेन्सी दोबारा शुरू करते है जिसमे वो गमराज और टोड्स की requests पर कुर्ला और राजापुर के बेरोजगार लोगो को नौकरी देते है. टोड्स और गमराज एक दूसरे से माफ़ी मांग कर अपने इलाकों की तरफ रवाना होते है.


The End.

No comments:

Post a Comment