Mohit Trendy Baba's few lucky saved works from defunct websites, forums, blogs or sites requiring visitor registration....

Thursday, July 24, 2014

Quotes - मोहित शर्मा (ट्रेंडस्टर / ट्रेंडी बाबा)



*) - It's crucial to gather as much info as you can about artists, creative people before collaborating, dealing & sharing resources with them. I know many self obsessed people who never bother to know anything about supremely talented people working with-around them....this is very sad. Several people suffer from 'self censoring' syndrome which restricts them to share info about their works frequently on big public platforms but thanks to internet its easy to know details about their works on archive-records-listings sites. 

Its frustrating to see people peacocking in a collaborative project as a main lead without mentioning anyone else from the team and even saying "Thank you!" on compliments given to specific stuff done by other team members....unaware that this project is just 1 more entry in the archive listing of someone very senior to them and hundreds of published works more than them.

On a positive note there are awesome people who surprise you by reviewing some old work, creating some tribute, mentioning some random stuff from that unnoticed anthology poem from 2008 etc. This inspires you to include more terms, people, routes when you procrastinate.


*) - एकल परिवारो चलन तो अब आम बात है। पर कुछ दशक पहले इस बात को कोतूहल से देखा जाता था। अब एकल परिवारो में सुविधा अनुसार सिर्फ़ चुनिंदा रिश्तो को निभाना बढ़ रहा है। वैसे संयुक्त और एकल दोनों की अपनी खासियतें और ख़ामियाँ है पर मैं भविष्य देखता हूँ तो लगता है शायद एकल भी ना बचे। तब इंसान सुविधा के हिसाब से सिर्फ अपने लिए जिये फिर चाहे वो रिश्ता 15 साल चले या 15 दिन। सामाजिक प्राणी होने से स्थायित्व आ जाता है। पर अब स्थाईपन के अन्य कृतिम साधन है जो मन को दिलासा देते है और इंसान दूसरो से दूर होता चला जाता है।

*) - Abhi Saif Ali Khan ka confession padha ki Humshakals ki script hi nahi thi proper, jo kuch tha Sajid Khan k dimaag ki khichdi thi. Pehle ki Sajid movies dekh chuke log jaante hai ki ye confession late aaya hai. Khair, Saif ki kya kahe pehle se jaante hue mai khud movie dekhne kaise chala gaya. Lakho talented log ek chance k liye marre rehte hai aur hum logo ko H**mkhoro ko sar par baithaane ki aadat ho chuki hai jo openly kehte hai ki public aesi hai, yahi deserve karti hai.

*) - किसी भी तरह की कला से जुड़े व्यक्ति पर राय बनाने से पहले ज़रूर जान लें की उसने कितना काम किया है। अगर आपने वह काम नहीं देखा है या वह काम आपकी नज़र में छोटे स्तर पर हुआ है तब भी वह कलाकार इज़्ज़त का हक़दार है। पैसों और स्तर के अलावा किस्मत और व्यक्ति की प्राथमिकता भी होती है।  

*) - कुछ लोग तब तक इलास्टिक खींचते ही रहते है जब तक वो खींचती है.... :) इतने सारे अनुभवों के बाद भी वो किसी के इलास्टिक पर रहम नहीं करते। :p

No comments:

Post a Comment